नईदिल्ली,अंशुसिंह।पंजाबकेलवलीप्रोफेशनलयूनिवर्सिटीसेबीटेककरनेवालेशुभमकीबचपनसेइच्छाइंडियनडिफेंससर्विसेजमेंजानेकीथी।उनकायहसपनापूराहुआहैऔरवेअगलेमहीनेदेहरादूनस्थितमिलिट्रीएकेडमीमेंट्रेनिंगकेलिएजारहेहैं,जिसकेबादवेभारतीयसेनामेंलेफ्टिनेंटकापदसंभालेंगे।शुभमनेस्कूलीदिनोंमेंहीतयकरलियाथाकिउन्हेंआगेक्याकरनाहै?किसक्षेत्रमेंअपनाभविष्यबनानाहै।

आठवींकक्षामेंवेराष्ट्रीयकैडेटकोर्प(एनसीसी)काहिस्साथे।वहांमाउंटेनियरिंगएवंअन्यएडवेंचरएक्टिविटीजकोलेकरकाफीएक्सपोजरमिला।प्रशिक्षणकरतेहुएहीउनकीरुचिभारतीयफौजमेंशामिलहोनेकीहुई।उन्होंनेसैनिकस्कूलकीप्रवेशपरीक्षादी,लेकिनउसमेंसफलनहींहोसके।फिरभीहारनहींमानीऔरआगेचलकरएनडीएकीपरीक्षामेंशामिलहुए।लिखितक्लियरकरलिया,लेकिनइंटरव्यूमेंनाकामरहे।वेबतातेहैं,‘इनतमामअसफलताओंकेबावजूदमैंनेलक्ष्यकापीछाकरनानहींछोड़ा।बीटेककरतेहुएडिफेंससर्विसेजकीतैयारीकरतारहा।कॉलेजमेंनौसेपांचबजेतकक्लासहोतीथी।लेकिनमैंरोजानातैयारीकेलिएतीनसेचारघंटेनिकालहीलेताथा।येमेराआखिरीअटेम्प्टथाऔरमैंसफलरहा।‘

कॉलेजमेंमिलाएक्सपोजर,बदलाव्यक्तित्व

शुभमनेकहींसेकोईकोचिंगनहींकी।सेल्फस्टडीकेअलावाऑनलाइनमाध्यमोंसेसहायताली।पढ़ाईकेसाथ-साथशारीरिकप्रशिक्षणपरध्यानदिया।नियमितएक्सरसाइज,दौड़आदिकिया।इंजीनियरिंगकरनेकेदौरानकॉलेजमेंभीकाफीकुछसीखनेकोमिला।विशेषकरअपनेसॉफ्टस्किल्सपरकामकरने,उसेतराशनेकाभरपूरअवसरमिला।वेबतातेहैं,‘एलपीयूमेंदेशकेअलग-अलगहिस्सोंकेछात्रोंसेसंवादहोनेकेकारणमेराएकनयानजरियाविकसितहुआ।इससेपूराव्यक्तित्वबदलगया।फैकल्टीनेभीहमेशाप्रोत्साहितकिया।‘आगेकीयोजनाकेबारेमेंशुभमनेबतायाकिवेआगामीतीनअक्टूबरकोमिलिट्रीएकेडमीकोज्वाइनकरेंगे।वहांकरीबडेढ़सालकीट्रेनिंगकेबादवेलेफ्टिनेंटकेतौरपरभारतीयसेनामेंशामिलहोंगे।वेकहतेहैंकिमैंटीमवर्कमेंविश्वासकरताहूं।कोशिशरहेगीकिसबकोसाथलेकरचलूं।उनकाभरोसाएवंसम्मानहासिलकरसकूं।

विफलताओंकेबावजूदकभीहारनहींमानी

भारतीयरक्षासेवाकेलिएखुदकोशारीरिकएवंमानसिकरूपसेकैसेतैयारकिया,इसबारेमेंशुभमबतातेहैंकिमैंनेअबतकयहीसीखाहैकिकभीभीमनसेहारनहींमाननीचाहिए।गिवअपनहींकरनाचाहिए।मैंनेइतनीसारीविफलताएंदेखीं,लेकिनकभीखुदकोहारनेनहींदिया।मेडिटेशनकीमददसेनकारात्मकतासेदूररहा।मानसिकरूपसेखुदकोतैयारकिया।इसमेंअभिभावकोंकाभीकाफीसहयोगमिला।हालांकि,वेचाहतेथेकिमैंसिविलसर्विसमेंजाऊं।लेकिनउन्होंनेहरप्रकारसेउत्साहवर्धनकिया,जबकिमेरेपरिवारमेंकिसीकीभीसैन्यपृष्ठभूमिनहींरहीहै।शुभमकानिश्चयपक्काथाकिउन्हेंक्याकरनाहै।इंजीनियरिंगकॉलेजमेंप्लेसमेंटकेदौरानउन्हेंअच्छीकंपनियोंकेऑफरआएथे।लेकिनउन्होंनेबड़ेसैलरीपैकेजकोचुननेकीबजायडिफेंससेवामेंजानेकानिर्णयलिया।

भारतीयरक्षासेवामेंहैंयुवाओंकेलिएमौके

शुभममानतेहैंकिडिफेंससर्विसमेंतकनीकीएवंगैर-तकनीकी,साइंसएवंह्यूमैनिटीजकिसीभीफील्डकेयुवाकरियरबनासकतेहैं।आजबेशकथोड़ीजानकारीकाअभावहै।युवाओंकोपतानहींहोताकिवेकैसेरक्षासेवामेंअलग-अलगमाध्यमोंसेप्रवेशलेसकतेहैं।यहांदेशसेवाकेसाथरोमांचकगतिविधियोंमेंहिस्सालेनेकाअवसरमिलताहै।रिसर्चकरनेकेमौकेहोतेहैं।लेकिनजरूरीयेहैकियुवाहारनमानें,बल्किअपनीकमियों-कमजोरियोंकोदूरकरनेपरध्यानदें।क्योंकिकईनौजवानहोतेहैं,जोएकबारमेंसफलतानहींमिलनेपरनिराशहोजातेहैं।ऐसानहींहोनाचाहिए।कभीरिजल्टओरिएंटेडथिंकिंगनहींरखनीचाहिए।इसकेविपरीतखुदकोइंप्रूवकरनेएवंअपनासर्वश्रेष्ठदेनेकीकोशिशकरनीचाहिए।अगरसेलेक्शनहोताहैतोठीक,नहींहोताहैतोफिरसेप्रयासकरें।एकनएकदिनसफलताजरूरमिलेगी।

Coronavirus:निश्चिंतरहेंपूरीतरहसुरक्षितहैआपकाअखबार,पढ़ें-विशेषज्ञोंकीरायवदेखें-वीडियो

By Giles