जागरणसंवाददाता,पानीपत:मुझेजन्मदिनकीबधाइयांमिलरहीथी,उधर17वर्षीयाबेटीमाहिकामृत्युशैयापरथी।बेटीकोखोनेकागमजीवनभररुलाएगा,सुकूनयहकिवहमरकरभीदोलोगोंकीआंखोंमेंजिदारहेगी।बेटीकेमरणोपरांतआखेंदानकरनेकेबादशोकाकुलपिताराकेशगुर्जर(वकील)नेएकहीवाक्यमेंसमाजकोबड़ासंदेशदेदिया।

राकेशगुर्जरनेबतायामाहिकाआर्यग‌र्ल्सपब्लिकस्कूलमेंकक्षा12कीछात्राथी,परिवारकीलाडलीथी।गतमाहउसेटाइफाइडहुआथा,इलाजसेकुछआरामभीमिलाथा।इसकेबादउसकीआंतोंमेंसंक्रमणहोगया।29अक्टूबरकोउपचारकेदौरानबेटीदुनियासेविदाहोगई।

चिकित्सकोंनेबतायाकिआंतेंफटगईथीं।बेटीकीमृत्युकेबादजनसेवादलकेसदस्यघरपहुंचेऔरनेत्रदानकेलिएप्रेरितकिया।मैंनेपारिवारिकसदस्योंसहितपत्नीपरमजीतकौरकोनेत्रदानकेविषयमेंबताया।दुखकीघड़ीमेंभीपत्नीनेहिम्मतसेकामलिया।बेटीकीआंखेंदानकीगईहैं।जनसेवादलने²ष्टिदातासम्मानप्रशस्ति-पत्रदियाहै।यहप्रशस्ति-पत्रभीबेटीकीयादोंकेसाथहमेशाकेलिएहमारेजीवनकाहिस्साबनगयाहै।मैंलोगोंसेअपीलकरूंगाकिमानवकीमृतदेहचितामेंजलनेकेबादमुट्ठीभरराखमेंबदलजाएगी।स्वजनकीमृत्युउपरांतउनकीआंखेंदानकरेंतोवेकिसीकेजीवनकाउजियाराबनेंगी।त्योहारोंकीखुशीगममेंबदली

एडवोकेटराकेशगुर्जरनेबतायाकिपरिवारमेंपत्नीकेअलावा12सालकाबेटावबेटीमाहिकाथी।दीपावली,भैयादूजसेपहलेक्रूरकालनेनभूलनेवालागमदियाहै।भैयादूजसेपहलेबहनकोखोदेनेपरबेटेकीआंखोंमेंआंसूआजातेहैं।

By Green